प्रेम और सत्य एक ही सिक्के के दो पहलू हैं....मोहनदास कर्मचंद गांधी...........मुझे मित्रता की परिभाषा व्यक्त करने की आवश्यकता नहीं है, क्योंकि मैंने ऐसा मित्र पाया है जो मेरी ख़ामोशी को समझता है

Sunday, December 19, 2010

Pathak Manch on Baalpane Ri Baatan in Jasana Gaanv, Nohar, Hanumangarh, Rajasthan

16 - 31 December 2010, Taabar Toli


बाल साहित्यकार दीनदयाल शर्मा की राजस्थानी बाल संस्मरण पुस्तक ''बाळपणै री बातां'' पर गाँव जसाना में पाठक मंच आयोजित किया गया..उक्त रपट "टाबर टोळी  " में प्रकाशित ...

1 comment:

हिन्दी में लिखिए