प्रेम और सत्य एक ही सिक्के के दो पहलू हैं....मोहनदास कर्मचंद गांधी...........मुझे मित्रता की परिभाषा व्यक्त करने की आवश्यकता नहीं है, क्योंकि मैंने ऐसा मित्र पाया है जो मेरी ख़ामोशी को समझता है

Saturday, July 5, 2014

दीनदयाल रा दूहा / करम सुधारै काज

दीनदयाल रा  दूहा-

करम सुधारै काज / दीनदयाल शर्मा

सुरसत बैठी सा’मणै, चितर दिखावै च्यार।
बेदां नै तूं बांचले, पाछै कलम पलार।। 1

बैठ्यौ क्यूं है बावळा, टैम लाखिणी टूम।
मे’नत कर तूं मोकळी, झूम बराबर झूम।। 2

घोचो मुंडै क्यूं घालै, करले कोई काम।
घोचो बणसी घेंसळौ, लूंठां लोग लगाम।। 3

खाली नां कर खोरसौ, करम सुधारै काज।
भायां में भारी पड़ै, रोज करैलौ राज।। 4

जीभ चटोरी जोरगी, लपरावै क्यूँ  लार।
रूखी खा ले रोटड़ी, जिंदड़ी रा दिन च्यार।। 5

बातां मत कर बावळा, समझ टैम रो सार।
घट-बध नीं होवै घड़ी, रै’वै अेक रफ्तार।। 6

मे’नत स्यूं  मालक  बणै, बधता जावै बोल।
गांव गु’वाड़ी गोरुवैं, ढम-ढम बाजै ढोल।। 7

मिनखजमारौ मोवणौ, हरख राख तूं हीय।
रूखी सूखी खायके , पालर पाणी पीय।। 8

काम अेक  नीं तूं करै , पड़सी कियां पार।
सुपणां लेवै सो’वणां, सांचौ बण सरदार।। 9

मनड़ा मीठा मो’वणां, बूंदी - लाडू बोल।
सगळा करै सरावनां, आखौ कै ’ अनमोल।। 10

1 comment:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल रविवार (06-07-2014) को "मैं भी जागा, तुम भी जागो" {चर्चामंच - 1666} पर भी होगी।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete

हिन्दी में लिखिए